Top 10 Fruits For Summers | 98Fit

Diabetic Friendly food in Hindi

डायबिटीज एक ऐसी स्थिति है जहां रक्‍त में ग्‍लूकोज का स्‍तर अस्‍वास्‍थ्‍यकर होता है। यह स्थिति ब्‍लड में शर्करा के स्‍तर को विनियमित करने में शरीर की अक्षमता का परिणाम है। इसमें या तो शरीर में पर्याप्‍त मात्रा में इंसुलिन का निर्माण नहीं हो रहा है या तो शरीर कुशलता से रक्त शर्करा का विकास करने में सक्षम नहीं है। आमतौर पर डायबिटीज दो प्रकार के होते हैं पहला टाइप-1 डायबिटीज और दूसरा टाइप-2 डायबिटीज।

टाइप -1 डायबिटीज प्रतिरक्षा प्रणाली की खराबी के कारण होता है, जो अग्न्याशय में इंसुलिन उत्पादन कोशिकाओं पर हमला करता है और उन्हें नष्ट कर देता है। वहीं दूसरी ओर, टाइप-2 डायबिटीज के विकास में हमारी जीवनशैली और अन्य कारकों का योगदान होता है। यदि आप फिजिकल एक्टिविटी नहीं करते हैं और आपका वजन अधिक है, तो टाइप -2 डायबिटीज विकसित होने का खतरा बढ़ जाता है। फिर भी, डायबिटीज रोगियों की डेली डाइट क्‍या होनी चाहिए इस बारे में ध्‍यान रखना जरूरी है। यहां हम 5 ऐसे फ्रूट्स के बारे में बता रहे हैं जिनका सेवन आसानी से डायबिटीज रोगी कर सकते हैं।

अमरूद
हरे उष्णकटिबंधीय फल का देश भर में व्यापक रूप से आनंद लिया जाता है। अमरूद भी एक ग्लाइसेमिक इंडेक्स फल है जो कि फाइबर में भी समृद्ध है- फल के 100 ग्राम हिस्से में 5 ग्राम फाइबर (यूएसडीए डेटा के अनुसार) होता है। रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने के लिए, अमरूद का रस के रूप में सेवन किया जा सकता है।

पपीता
पपीता एक देसी फल है जो हमारे लिए कई फायदे हैं। भारत, दुनिया भर में पपीते के सबसे बड़े उत्पादकों और निर्यातकों में से एक है। उष्णकटिबंधीय फल (गर्म फल) में कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स (जीआई) होता है और यह एंटीऑक्सिडेंट में समृद्ध होता है, जो रक्त शर्करा के स्तर के नियमन में मदद कर सकता है।
मेंग्गोस्टीन
यह विदेशी दिखने वाला फल स्‍वीट और टैंगी होता है, जिसे फलों की रानी या देवताओं के भोजन के रूप में भी जाना जाता है। यह विटामिन सी और इसमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट की उपस्थिति के कारण प्रतिरक्षा में सुधार करने के लिए जाना जाता है। यह मधुमेह वाले लोगों की मदद कर सकता है क्योंकि ऑक्सीडेटिव तनाव मधुमेह के लक्षणों से जुड़ा हुआ है।

तरबूज
यह ताज़ा कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स फल कई लोगों का पसंदीदा है, क्योंकि यह स्वाद में स्वादिष्ट है। तरबूज भारत में एक लोकप्रिय फल है और यह मधुमेह के अनुकूल भोजन है, क्योंकि यह गुर्दे की कार्यक्षमता को बढ़ाता है। तरबूज तंत्रिका क्षति से भी रक्षा कर सकता है, जो मधुमेह के कारण हो सकता है।

कोकम
तीखे फल का उपयोग कई प्रकार के भारतीय करी और व्यंजनों में स्वाद बढ़ाने वाले एजेंट के रूप में किया जाता है। हालांकि, यह एंटीऑक्सिडेंट में भी समृद्ध है जो ऑक्सीडेटिव तनाव से लड़ते हैं। गार्सिनिया इंडिका के रूप में भी जाना जाता है, कोकम लिवर फंक्‍शन के लिए अच्‍छा हो सकता है, जिससे मधुमेह रोगियों में बिगड़ा होने का खतरा हो सकता है। यह एंटीऑक्सिडेंट में भी समृद्ध है और इसका निम्न ग्लाइसेमिक इंडेक्स मूल्य है।

Add comment